सैनिकों से बर्बरता आखिर कब तक? कड़ी निंदा समाधान नही………

0
177

छतीसगढ़ के सुकमा हमले में देश के 26 जवानों की चिंता अभी ठड़ी भी नही हुई थी कि दो दिन में ही पाकिस्तान के पुछं इलाके में दो जवानों के पार्थिव शरीर से बर्बरता की घटना सामने आयी जिससे देश की सरकार ओर सिस्टम पर सवालिया निशान लगा दिया है ओर देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वालों में इन शहीदों का नाम भी जुड़ गया है आज शहीदों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है। ओर नेताओं ने भी अपने-अपने अंदाज में राजनीतिक पार्टीयों के नेताओं ने कड़ी निंदा करना शुरू कर दिया आज कड़ी निंदा शब्द इतना सस्ता ओर आसान हो गया है राजनेता हर रोज हो जवानों पर हमले की कड़ी निंदा कर रहे है देश की जनता जानता चाहती है कि क्या कड़ी निंदा करने मात्र से देश के वीर सपूतों की शहादत को भूला दिया जाएगा या फिर यू कहे कि कड़ी निंदा शब्द एक ऐसा निंदा शब्द बन जाएगा जिसे देश का कोई भी नागरिक सुनना पंसद नही करेगा क्या कड़ी निंदा मात्र से सैनिकों की बर्बरता का समाधान हैै?
अब शहीदों के अपमान का बदला लेेने का समय आ गया है ओर देश का प्रत्येक नागरिक पुछ रहा है कि देश के सैनिकों के साथ आखिर कब तक होती बर्बरता क्या इस लिए उनकों फौज में भेजा जाता है कि कोई दुश्मन उन्हें सारे आम मार कर चला जाये ओर देश के नेता केवल शहीद के परिवार को सात्वंना देकर,उनकी प्रतिमा पर पुष्प चढ़ाकर,ओर शोक प्रकट करके अपना दायित्व निभा सके।
शहीद शब्द ही एक ऐसा शब्द है जिसको सुनने मात्र से ही हम सब के रोगटें खड़े हो जाते है ओर आखों के सामने वो मंजर,रोहराट वो नौजवानों की आखों में गुस्सा जरा सोचिए क्या बीतती होगी जब जवानों की टुकड़ी पर जो अपने साथी के पार्थिव शरीर को अपने कधों पर लेकर किसी गांव या शहर में पहुचंती है जिसमें उस जवान का बचपन बीता था,जिसमें सपने सजोयें थे अपने परिवार के साथ रहने के ना जाने कितने उदाहरण एक शहीद शब्द से जुड जाते है जरा सोचिए क्या बीतती होगी उस शहीद मां,बहन, पत्नी,भाई,ओर छोटे छोटे बच्चें जो विलाप कर रहे है अपने पिता के आने का इंतजार कर रहे है। आज शहीद परिवार भी पूछने को चिख-चिख कर कह रहा है कि आखिर कब तक हम अपने लाल को यूही दुश्मनों के हाथों मरवाते रहेगे ओर आखिर कब तक देश की धरती जवानों के खुन से लाल होती रहेगी आखिर कब तक देश के जवानों के साथ बर्बरता होती रहेगी……..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)