समय के साथ राजनेता कैसे रंग बदलते है

0
100

समय के साथ राजनेता कैसे रग बदलते है ये इस समाचार पत्र कि कतरन को देख कर लगता है,एक कहावत है जिधर देखी थाली परात उधर बिताई सारी रात पिछले दिनो बाबा सहाब को अपना आदर्श बताने वाले मोदी कभी ये भी बोले थे ऐसा ही एक अखबार कि कटिगं आज सोशल मिडिया पर नजर आयी इस पर अभी तक कोई टिप्पणी भाजपा या प्रधानमन्त्री कार्यालय कि और से नही आयी परन्तु फिर भी एक बार भाजपा के दलित विरोधी चेहरे पर बहस शुरु हो गई है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)