चोटी कटवा के बाद अब थन कटवा चर्चा में और यू न्यूज करता है कटवा का खुलासा

0
230

cotiwater-buffalo--43b4f9aaab7ca31e

पिछले 60 दिनों से देशभर में दहशह फैलाए हुए चोटी कटवा प्रकरण के बाद अब मिर्जापूर (उ.प्र) परसिया गांव से आई एक खबर के अनुसार वहां पर एक भैंस के थन कटे हुए मिले जिसके कारण पूरे क्षेत्र के लोग परेशान नजर आए। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के गत दिवस हरियाणा के गांव हबाना में जो कि जिला थानेसर का हिस्सा है में सुबह 9ः30 बजे परिवार के बीच बैठे-बैठे एक महिला की चोटी कटने का समाचार प्राप्त हुआ है। ज्ञात रहे कि यू न्यूज ने इस घटना की तह जाने का फैसला किया और जहां-जहां इन घटनाआंे की अहवाह वहां की कड़ियों को जोड़ना शुरू किया तो हमें यह मानना पड़ा की घटना सिर्फ कपोल कल्पना नही है, बल्कि कहीं ना कहीं कुछ ऐसा है, जिस पर विज्ञान की दृष्टि से खोजबीन करने की जरूरत है नाम ना लिखने के आधार पर हमसे बातचित करते हुए कुछ वरिष्ठ तांतरिकों ने यह बताया कि तंत्र विद्या में इस तरह से बाल काटकर उपयोग करने की कोई प्रक्रिया नही है अगर है भी तो उसमें साधक को स्वमं बाल प्राप्त करने होते है। ऐसे में अब यह प्रश्न उठता है कि अगर यह तंत्र विद्या के लिए नही है तो दूसरा सवाल है जो पिछले दिनो सोशल मीडिया पर काफी चर्चित रहा जो एक जीव विज्ञानिक ने अपनी राय दी थी कि यह एक किड़े का काम है जो पेड़ों की छाल खाता है और बालों को भी काट डालता है यू न्यूज इस बात से इन्कार नही करता पर सवाल यह उठता है इन किड़ों को खरीदने वाला कौन क्योकिं यह दावा किया जा रहा था कि किसी ओनलाईन वैबसाईट से इन किड़ो कि बिक्री हो रही थी। इन सारे तथ्य पर विचार करते हुए यू न्यूज सोचता है कहीं ऐसा तो नही……………………………………………….की कटवा प्रकरण एक देश के खिलाफ दैहशत फैलाने वाली साजिश तो नही जिसके चलते किसी देश के अन्दर बैठे या देश के बाहर बैठे दुश्मन ने उड़ने वाले लेजर हथियार का परिक्षण करने के लिए देश की भोली भाली जनता को प्रयोगशाला बना दिया हो, ऐसी चर्चाएं भी सुनने में आ रही है कि कुछ उड़ने वाले लघू खिलौने गांव में घूमने वाले संद्विगधों से प्राप्त हुए है, परन्तु हम उनकी अभी पुष्ठी नही कर सकते जांच जारी है। परन्तु हमारे द्वारा अब तक कि जांच के आधार पर हम यह दावा करते है कि यह ना तो मानवीय हरकत है ना ही दानवीय हरकत है, यह सीधा साधा विज्ञानिक तौर तरिके से किया गया छोटा स्तरीय हमला है जिसे सरकार और प्रशासन को गंम्भीरता से लेना चाहिए और इसकी जांच उन विज्ञानिकों को देनी चाहिए जो रसायनिक व अणु हथियारों की पूरी जानकारी रखते हो।
हम राष्ट्रहित में अब इस खुलासे पिछे पड़ चुके है आपके पास भी अगर है कोई जानकारी तो तुरंत खबर करें राय दें 7027261438 व्हाट्सअप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)